निखिल के ठिकाने पर रेड, मिले सबूत, पीड़िता ने कहा, अब और क्या चाहिए

पटना : पूर्व कांग्रेस मंत्री की बेटी प्रिया (बदला हुआ नाम) के यौन शोषण के आरोपी राजधानी के चर्चित ऑटोमोबाइल कारोबारी निखिल प्रियदर्शी के ठिकाने (घटनास्थल) पर पुलिस रेड कर चुकी है. निखिल के ठिकानों की छापेमारी में पुलिस को केस से संबंधित महत्वपूर्ण सबूत भी मिल गए हैं. सबूतों की जांच करा ली गई है, जो निखिल के ऊपर लगे आरोपों की पुष्टि करते हैं. बावजूद इसके निखिल प्रियदर्शी अभी तक पुलिस की गिरफ्त में नहीं आ सका है. इन तमाम दावों के साथ पीड़िता प्रिया ने अब राष्ट्रीय महिला आयोग को भी शिकायत कर दी है. इससे पहले राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग में पीड़िता ने शिकायत की थी. जिसके बाद आयोग की ओर से ये आदेश आया था कि निखिल प्रियदर्शी को जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाए.

निखिल के परिजनों के खिलाफ ‘नो कोरेसिव’ लागू करने का आदेश

प्रिया का यह भी आरोप है कि निखिल प्रियदर्शी को बचाने में कई प्रकार की ताकतें लगी हैं, जिसमें रसूखदार प्रशासनिक-आधिकारिक लोग भी शामिल हैं. इनके कारण ही गिरफ्तारी का ठोस प्रयास पुलिस के द्वारा नहीं किया जा रहा है.

मिखिल का फाइल फोटो

अब CBI से जांच कराने की मांग

पीड़िता प्रिया ने राष्ट्रीय महिला आयोग को चिट्ठी लिखकर मामले की जांच केन्द्रीय जांच एजेंसी CBI से कराने की मांग की है. पीड़िता ने आयोग को लिखा है कि स्थानीय पुलिस और प्रशासन मामले में निखिल को बचाने का प्रयास कर रहे हैं. इसीलिए निष्पक्ष जांच के लिए इस मामले को CBI के अधीन कर दिया जाना चाहिए. पीड़िता ने आयोग से गुहार में लगाई है कि वह इस मामले को लेकर बहुत तनाव में है. इसीलिए आयोग उसकी मदद करते हुए न्याय दिलाने में मदद करे.

निखिल की गिरफ्तारी का आदेश, प्रिया को मिलेगी सुरक्षा

आपको बताते चलें कि मामले में पीड़िता ने राष्ट्रीय अनुसूचित आयोग को भी शिकायत की थी. आयोग ने कमजोर वर्ग के DG को लिखा था कि आरोपी निखिल प्रियदर्शी की गिरफ्तारी जल्द से जल्द की जाए. इसके बाद निखिल की ओर से एडीजो 1 कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका भी दायर की गई थी. जिस पर अंतिम निर्णय अभी नहीं आया है. मगर कोर्ट ने निखिल के पिता और भाई पर नो कोरेसिव का आदेश भी दे दिया. निखिल अभी भी फरार है.

यह भी पढ़ें :

नीतीश के साथ खड़ी हुयी भाजपा, मानव श्रृंखला में साथ-साथ होंगे

पटना कॉलेज में बोले रविशंकर : लालू जी भी यहीं मिले, मेरी श्रीमती भी यहीं मिलीं

Audio-Video : ध्यान दें SSP साहब ! केस में नाम हटाने को दरोगा मांग रहा लाख रुपया, दे रहा है गाली भी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *